अल्‍लाह का चैलेंज वैज्ञानिकों को सृष्टि रचना बारे में #4-7

कुरआन में कही गई हर बात non-muslim के लिए चैलेंज है, किसी को झुठलाकर दिखादो, मसलन
सृष्टि रचना के बारे में कुरआन में हैः
अनुवादः ‘हमने (अर्थात खुदा ने) हर जानदार को पानी से बनाया है।’ – सूरः अम्बियाः30
‘सूर्य अपने एक मुस्तक़र (ठिकाने) की ओर दौड रहा है, यह सर्वशक्तिमान और हर चीज़ की खबर रखने वाली सता का ठहराया हुआ कानून है, और चांद के लिए हमने मंजिले मुकर्रर कर दी हैं और हरेक अपने विशेष क्षेत्र में बराबर तैरता रहता है।’ – यासीन 39,40
‘बेशक ये सारे आसमान और यह ज़मीन पहले सब के सब आपस में मिले हुए थे, तो हमने उन्हें अलग-अलग किया। -सूरः अम्बियाः30

ये सारी बाते आज साबित हो चुकी हैं। वैज्ञानिक खोजें बता रही हैं कि सृष्टि अपनी आरम्भिक हालत में गैस के खज़ाने की शक्ल में थी, जीवन-स्रोत पानी है, रचानाओं के भीतर ‘जोडे’ का नियम लागू है, चांद और सूर्य और सारे ग्रह अपनी निश्चित धुरियों पर घूम रहे हैं। जिस समय कुरआन मजीद इस विश्वास पूर्ण स्वर में, यह सब कुछ कह रहा था। उस समय (1400 वर्ष पूर्व) के ज्ञान-विज्ञान के जानकारों को इन की कल्पना भी नहीं थी, इन्हें प्रमाणित तथ्य स्वीकार कर लेना तो दूर की बात थी। प्रश्न पैदा होता है कि फिर कुरआन में, सदियों पहले इन ज्ञानपूर्ण तथ्यों का उल्लेख कैसे आया?

सृष्टि अपने वर्तमान रूप में आने से पहले, पुरी की पूरी, एक ही माद्दे (मूल तत्व) के रूप में थी, एक ही प्रकार की एक विशेष वस्तु थी, जो वातावरण में फैली हुई थी। फिर विधाता ने इसे अनेक भागों में बांट दिया और उनसे अनेक ग्रहों के रूप में जन्म लिया। मूल तत्व का स्पष्टीकरण कुरआन की आयत से यह होता है कि यह एक प्रकार का धुआं-गैस था।

कुरआन के बारे में खुली दावत है छानबीन करें। लगभग सभी भाषाओं में कुरआन का अनुवाद मिल जाता है। सबको चाहिए कि इसके औचित्य को जांचने और सच्चाई मालूम करने की कोशिश करे। बुद्ध‍िजीवी किसी ऐसी चीज को नज़रन्दाज़ नहीं कर सकता, जो उसके शाश्वत राहत का सामान होने की सम्भावना रखती हो और छान-बीन के बाद शत-प्रतिशत विश्वास में निश्चित रूप से बदल सकती हो।
हर काव्य से श्रेष्ठ, कोई दूसरा काव्य इसे नीचा नहीं दिखा सकता।
सोचिये क्या ऐसी वैज्ञानिक व बौधिक दलीलें किसी पुस्तक में मिलती हैं? जैसी कुरआन में हैं। नहीं मिलती तो

मान लिजिये कि कुरआन ही निश्चित रूप से खुदाई कलाम अर्थात ईशवाणी है बाकी सब झूठ।
विडियो जो इस्‍लाम और कुरआन को विज्ञान से समझने में आपकी सहायता करेंगी
Sex of the baby (Miracles of Quran hindi)


Miracles of Quran Urdu Part 5-6 (protected roof)


2 thoughts on “अल्‍लाह का चैलेंज वैज्ञानिकों को सृष्टि रचना बारे में #4-7

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s